कुछ इस तरह का रहा 2011 का साल

क्या आप जानते कैसा बीता 2011 का साल चलिए बताते है

इंग्लैंड में सीरीज और टेस्ट मेंगंवाई बादशाहत
इस साल 13 अगस्त को टीम इंडिया ने न सिर्फ इंग्लैंड से टेस्ट सीरीज़ गंवाई बल्कि करीब 20 महीने दुनिया की नंबर एक टेस्ट टीम रहने के बाद बादशाहत भी गंवा दी थी। इंग्लैंड ने बिल्कुल एकतरफा सीरीज़ के तीसरे मैच में एजबेस्टन में भारत को पारी और 242 रनों से शिकस्त देकर चार मैचों की सीरीज़ में 3-0 से अजेय बढ़त बना ली थी। भारत ने टेस्ट सीरीज़ 4-0 से गंवाई थी, जो हाल के समय में टीम इंडिया का सबसे खराब विदेशी दौरा साबित हुआ।
आसमान में सोने के दाम
इस साल सोने के दाम में जबर्दस्त बढ़ोतरी हुई है। एक साल में सोने का दाम करीब-करीब दो गुना हो गया है। पिछले साल तक जहां सोना 15000 रुपये प्रति 10 ग्राम के आसपास बिका वहीं, 2011 तक इसका दाम दोगुना हो गया और 12 अगस्त को सोने के दाम ने सबसे लंबी छलांग लगाई और 29433 रुपये प्रति 10 ग्राम के स्तर को छू लिया था। सोने के दाम में इस बढ़ोतरी के चलते जहां नए ग्राहकों के लिए मुसीबत खड़ी हो गई वहीं निर्यातकों के भी हाथ-पांव फूल गए।
सेंसेक्स में ढाई सालों की सबसे बड़ी गिरावट
पूरी दुनिया में मंदी की आहट के साथ ही बिगड़ती अर्थव्यवस्था के सुबूत मिलने लगे हैं। तमाम आशंकाओं के बीच इस साल 19 दिसंबर को बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज के संवेदी सूचकांक सेंसेक्स ने 122 प्वॉइंट का गोता लगाते हुए 15222.36 के स्तर को छू लिया, जो बीते करीब ढाई सालों की सबसेबड़ी गिरावट थी।
अन्ना की गिरफ्तारी
मजबूत लोकपाल कानून की मांग कर रहे अन्ना हजारे को दिल्ली पुलिस ने 16 अगस्त की सुबह दिल्ली के मयूर विहार से जेपी पार्क की तरफ जाते हुए गिरफ्तार कर लिया था। उनके साथ अरविंद केजरीवाल और मनीष सिसोदिया भी थे। अन्ना को पहले सिविल लाइंस पर मौजूद जीओएस मेस में ले जाया गया और फिर तिहाड़ जेल। लेकिन अन्ना के समर्थन में बड़ी तादाद में लोगों के सड़कों पर उतरने के बाद तिहाड़ जेल प्रशासन को अन्ना को रिहा करने का फैसला करना पड़ा था।
सलमान तासीर की हत्या
पाकिस्तान की राजधानी इस्लामाबाद में वहां के पंजाब सूबे के गवर्नर सलमान तासीर की इस साल 4 जनवरी को हत्या कर दी गई थी। तासीर के सुरक्षा गार्ड ने ही उन्हें गोली मार दी। तासीर पर कुल नौ गोलियां बरसाई गईं। तीन उनकी छाती में, दो पेट में और चार गर्दन में लगीं। उनकी गर्दन में कई गोलियां लगी थीं। तासीर आज़ाद खयाल नेता माने जाते थे और उन्होंने पाकिस्तान में ईशनिंदा कानून की आड़ में अल्पसंख्यकों को परेशान किए जाने या सज़ा दिए जाने के खिलाफ आवाज़ उठा रहे थे। इसके लिए उन्हें पहले कई धमकियां भी मिली थीं।
पाकिस्तान के क्रिकेटरों को सज़ा
इस साल 4 नवंबर को जब लंदन की एक अदालत ने पाकिस्तान के क्रिकेटरों-सलमान बट को ढाई साल, मोहम्मद आसिफ कोएक साल और मोहम्मद आमिर को 6 महीने हिरासत में रखने की सज़ा सुनाई गई, तबन सिर्फ पाकिस्तान में क्रिकेट प्रेमियों के सिर शर्म से झुक गए बल्कि दुनिया भर में साफसुथरे क्रिकेट के पक्षधर लोगों को क्रिकेट के इस हाल पर दुख हुआ। इन क्रिकेटरों को लॉर्ड्स में अगस्त, 2010 में इंग्लैंड-पाकिस्तान के बीच टेस्ट मैच के दौरान पैसे लेकर नो बॉल फेंकने के मामले में दोषी पाया गया था।
रुपये में ऐतिहासिक गिरावट
अमेरिकी डॉलर के मुकाबले भारतीय रुपये में गिरावट का सिलसिला दिसंबर में तेज हुआ। लेकिन 15 दिसंबर को रुपये ने ऐतिहासिक गिरावट दर्ज करते हुए अब तक के सबसे निचले स्तर को छू लिया। उस दिन 12:51 बजे एक डॉलर के मुकाबले रुपया 54.30 के स्तर पर पहुंच गया, जो अब तक का रुपये का सबसे निचला स्तर है। गौरतलब है कि रुपये में गिरावट के साथ ही आयात महंगा हो जाता है। तेल कंपनियां रुपये की गिरती कीमत का ही बहाना बनाकर तेल के दाम अक्सर बढ़ाती हैं। दुनिया के अनिश्चित आर्थिक माहौल में भारतीय मुद्रा का नीचे जाना, शुभ संकेत नहीं माना गया।
बम धमाकों से दहल गई दिल्ली, मुंबई
इस साल भी देश आतंकवादी वारदातों का गवाह बना। इस साल राजधानी दिल्ली और आर्थिक राजधानी मुंबई आतंकवादियों के निशाने पर रहीं। 14 जुलाई को मुंबई में शाम के समय ओपेरा हाउस, जावेरी बाज़ार और दादर इलाके में तीनताकतवर बम विस्फोट हुए। इस हादसे में21 लोग मारे गए गए और कई बुरी तरह ज़ख्मी हुए थे। वहीं, 7 सितंबर को दिल्ली हाई कोर्ट के बाहर एक ब्रीफकेस में रखे बम में हुए धमाके में 11 लोग मारे गए थे और 80 लोग ज़ख़्मी हुए थे।
योग गुरु और उनके समर्थकों पर बरसीं लाठियां
काले धन और भ्रष्टाचार के खिलाफ अनशनपर रामलीला मैदान में बैठे योग गुरु बाबा रामदेव और उनके निहत्थे समर्थकों पर 4 जून की रात दिल्ली पुलिस ने लाठीचार्ज किया। पुलिस ने सोते समय कई पुरुषों, महिलाओं और बच्चों को पीट डाला। योग गुरु को हरिद्वार ले जाया गया। पुलिस का कहनाथा कि योग गुरु के पास अनशन की इजाजत नहीं थी। पुलिस की इस कार्रवाई की तीखी आलोचना हुई। इस बाबत एक मुकदमा भी सुप्रीम कोर्ट में चल रहा है।
कोलकाता के अस्पताल में आग में जिंदा जले 94
कोलकाता के मशहूर एएमआरआई अस्पताल में 9 दिसंबर को लगी आग में 94 लोग जिंदा जल गए। यह देश में आग लगने की सबसे बड़ी घटनाओं में से एक रही। अस्पताल में सुरक्षा मानकों की अनदेखी को पहली नज़र में हादसे की वजह मानी गई। इस अस्पताल के मालिक और निदेशकों के खिलाफ लापरवाही और गैर इरादतन हत्या का मामला दर्ज किया गयाहै। www.bhaskar.com
Post a Comment

Popular Posts