विज्ञान की जानकारी

चंद्रमा पर 'g' (गुरुत्वाकर्षण बल) का मान पृथ्वी का १/६ हो जाता है . अत : एक अंतरिक्ष यात्री पृथ्वी की तुलना में चन्द्र तल पर अधिक ऊँची छलांग लगा सकता है




निर्वात में गिराए गये पिंड का वेग द्रव्यमान पर निर्भर नहीं करता बल्कि पिंड मुक्त वेग से गिरता है 




यदि कोई साइकल सवार किसी मोड में घूमता है तो वह भीतर की और झुकता है तथा अपनी गति कम कर लेता है , जिससे वह अभिकेन्द्रीय बल से अपने भर को संतुलित कर सके और गिरने से बच सके


एक उड़ते हुए चक्के की प्रति सेकेण्ड घूर्णन स्ट्रोबोस्कोप द्वारा मापी जाती है .


बैरोमीटर द्वारा वायुमंडलीय दाब मापा जाता है 


एनिमोमिटर द्वारा वायु का वेग तथा हाइग्रोमिटर  द्वारा वायुमंडल की आर्द्रता मापी जाती है 


किसी घर्षण हिन सतह पर किसी पिंड का भर शून्य नहीं होता, क्योंकि पिंड के भर पर उसके घर्षण का अर्थ नहीं होता है 


रोकेट संवेग संरक्षण के सिद्धांत पर कार्य करता है . रॉकेट से गैसे अत्यधिक वेग से पीछे की और निकलती है तथा रॉकेट को आगे उठने के लिए आवश्यक संवेग प्रदान करती है 
Post a Comment

Popular Posts