आकाशगंगा (universe)

आकाशगंगा (universe)
आकाशगंगाएँ तारों का विशाल पुंज होती हैं, जिनमें अरबों तारे होते हैं। आकाशगंगाओं का निर्माण शायद 'महाविस्फोटÓ के 1 अरब वर्ष पश्चात् हुआ होगा। खगोलशास्त्री भी आकाशगंगाओं की कुल सँख्या का अनुमान नहीं लगा सके हैं। आकाशगंगाएँ इतनी विशाल होती हैं कि उन्हें 'द्विपीय ब्रह्मïांड भी कहते हैं। आकाशगंगाएँ मुख्यत: तीन आकारों- सर्पिल (स्श्चद्बह्म्ड्डद्य), दीर्घवृत्तीय (श्वद्यद्यद्बश्चह्लद्बष्ड्डद्य) और अनियमित (ढ्ढह्म्ह्म्द्गद्दह्वद्यड्डह्म्) होती हैं। हमारी आकाशगंगा 'मिल्की वे सर्पिल आकार की है। आकाशगंगाएँ अक्सर समूहों में ब्रह्मïांड की परिक्रमा करती हैं। हमारी आकाशगंगा 'मिल्की वे 20 आकाशगंगाओं के समूह की सदस्य है। कुछ आकाशगंगाओं के समूह में हजारों आकाशगंगाएँ शामिल होती हैं।
Post a Comment

Popular Posts