राजस्थानी संगीत

१. प्रमुख संगीत ग्रन्थ
               ग्रन्थ                                              ग्रन्थकार
  1. श्रृंगार हार - १३ वीं सदी ई.   ---------  हम्मीर (रणथंभौर)
  2. संगीतराज                         --------- राणा कुम्भा
  3. रागमाल, रागमंजरी           --------- पुण्डरीक विट्ठल 
  4. अनूप विलास, अनूप संगीत रत्नाकर,अनूप रागसागर , अनूप संगीत वर्तमान , भाव मंजरी , अनूप रागमाला , राग विवेक      --------- पं. भाव भट्ट
  5. राधा गोविन्द संगीत सार --------- सवाई प्रताप सिंह
  6. राग रत्नाकर                    --------- राधाकृष्ण
  7. राग कल्पद्रुम                  -------- कृष्णानन्द व्यास

२ . लोक वाद्य
लोक वाद्य के प्रकार                                    प्रमुख लोक वाद्य यंत्र
  • तत् वाद्य  ---  इकतारा , सारंगी, रावण हत्था, जंतर, रवाज, तंदूरा , दौतारा, चौतारा, कायादन्ता
  • घन वाद्य -- घंटा, झांझ, मंजीरा, खडताल, झालर, घुंघुरू, थाली, तासली

  • सुषिर वाद्य -- वंशी, शहनाई, लड़, पूंगी, मुरली, अलगोजा, मोरचंग, सतारा, मशक, नागफनी, करणा

  • अनवध वाद्य - ढोल, ढोलक, डमरू, कुण्डी, तसा, खंजरी, चंग, डफ, ढाक, नौबत, मादल, नगाडा, घेरा, मृदंग    
Post a Comment

Popular Posts