उदयपुर झीलों की नगरी



  1. उदयपुर 
  2. उदयपुर की स्थापना महाराणा उदय सिंह ने १५५९ ई . में की गयी . १५६८ में मुगल शासक अकबर ने चित्तौड पर आक्रमण किया. 
  3. उदयपुर झीलों की नगरी, राजस्थान का कश्मीर, पूर्व का वेनिस आदि उपनामो से प्रसिद्ध है . २००९ का विश्व का सर्वोत्तम शहर 
  4. २००७ का द्वितीय सर्वोतम एशियाई शहर 
  5. २००७ में ओबेराय उदयविलास होटल विश्व का सर्वोत्तम होटल घोषित
  6. जोनल रेलवे प्रशिक्षण संस्थान एशिया में सर्वोत्तम
  7. सर्वाधिक वन सम्पदा, और सर्वाधिक जलाशय
  8. राज्य में सर्वाधिक अदरक , हल्दी , सीताफल, ककड़ी, अंजीर, पपीता
  9. भैंस अनुसंधान व प्रजनन केन्द्र , वल्लभनगर
  10. राज्य में अरावली का सर्वाधिक विस्तार
  11. सर्वाधिक जैन आबादी, व सर्वाधिक जनजाति पाई जाती है
  12. जावर माइन्स में जस्ते व सीसे का उत्पादन
  13. हिंदुस्तान जिंक लिमिटेड, देबारी
  14. रोक फास्फेट , झामर कोटड़ा
  15. गुजरात की प्रमुख नदी साबरमती का उद्दगम स्थल
  16. सोम नदी , बिछाबेडा
  17. बेडच नदी, गोगुन्दा पर्वत
  18. आधुनिक राजस्थान के निर्माता मोहन लाल सुखाडिया की कर्मस्थली
  19. पंडित उदयशंकर भारतीये बेले के जनक
  20. पंडित रामनारायण प्रसिद्ध सारंगीवादक
  21. भारत का प्रथम मार्शल आर्ट विश्वविद्यालय
  22. माणिक्यलाल वर्मा आदिम जाति शोध संस्थान
  23. गवरी लोकनाट्य
  24. एकलिंगनाथजी का मन्दिर, कैलाशपुरी- निर्माण : 8 वीं शताब्दी में बप्पा रावल
  25. नीमच माता का मन्दिर
  26. जगदीश मन्दिर निर्माता - महाराणा जगत सिंह
  27. अम्बिका माता का मन्दिर , जगत गाँव में 
  28. बोहरा गणेशजी का मन्दिर (खड़े हुवे गणेश जी के कारण प्रसिद्ध)
  29. ऋषभदेवजी का मन्दिर (धुलैव) (काले पत्थर की मूर्ति) इसको कालाजी व केशरियानाथ जी भी कहा जाता है
  30. मोती नगरी - फतह सागर झील के नजदीक है 
  31. बागोर की हवेली निर्माता : ठाकुर अमरचंद बड़वा (इस हवेली में विश्व की सबसे बड़ी पगड़ी स्थित है)
  32. सिटी पैलेस - निर्माता प्रारंभ : महाराणा उदयसिंह द्वारा
  33. लैक पैलेस अर्थात जग निवास (पिछोला झील के मध्य में टापू पर स्थित इस का निर्माण महाराणा जगसिंह द्वितीय अपने नाम पर इसका निर्माण करवाया
  34.  
  35. पिछोला झील इसका निर्माण महाराणा लाखा के समय , पिछ्छू बनजारा ने करवाया था (दूध तलाई)   पिछोला झील पिछोला झील राजस्थान, भारत के सबसे सुंदर और सुरम्य झीलों में से एक है. पिछोला झील, शहर के दिल में स्थित है सबसे पुराना और उदयपुर की सबसे बड़ी झीलों में से एक है. 1362 में, सुंदर झील  पिछ्छू   बंजारा द्वारा महाराणा लखिया की सत्तारूढ़ अवधि के दौरान बनाया गया था.
  36. हल्दीघाटी - हल्दीघाटी इतिहास में महाराणा प्रताप और अकबर के बीच हुए युद्ध के लिए प्रसिद्ध है। यह राजस्थान में एकलिंगजी से 18 किलोमीटर की दूरी पर है। हल्दीघाटी का युद्ध 18 जून, 1576 ई. को हुआ था। इस युद्ध में महाराणा प्रताप की हार हुई थी। इसी युद्ध में महाराणा प्रताप का प्रसिद्ध घोड़ा चेतक मारा गया था। 

  37. फतह सागर - निर्माता : महाराणा जयसिंह 1678 में (पुननिर्माण : महाराणा फतेह सिंह) (इसमें नेहरु आईलेंड उद्यान है निर्माण - १४ नवम्बर १९६७ )(सौर वैधशाला निर्माण : 1975 में)
  38. जयसमंद झील एशिया की दूसरी सबसे बड़ी कृत्रिम झील (ढेबर झील भी कहा जाता है) निर्माता : महाराणा जयसिंह . इस झील के निकट जयसमंद अभयारण्य का निर्माण कराया गया
  39. उदयसागर झील निर्माता : महाराणा उदयसिंह 
  40. स्वरूप सागर निर्माता : महाराणा स्वरूपसिंह (उपनाम - कुम्भारिया तालाब)
  41. जियण सागर झील , निर्माता : महाराणा राजसिंह (उपनाम - बड़ी का तालाब)
  42. गुलाब बाग - निर्माता : महाराणा सज्जनसिंह, जंतुआलय १८७८ में स्थापित
  43. सहेलियों की बाड़ी - निर्माता : महाराणा संग्राम सिंह द्वितीय 
  44. आहड सभ्यता - आयड नदी के किनारे पर
  45. सज्जनगढ़ अभ्यारण्य - राजस्थान का क्षेत्रफल की दृष्टि से सबसे छोटा अभयारण्यों
  46. फुलवारी की नाल अभयारण्य 
  47. भारतीये लोक कला मण्डल स्थापना देवीलाल सामर द्वारा २२ फरवरी १९५२ में 
  48. मेवाड महोत्सव
  49. शिल्पग्राम मेला 
  50. नागदा - सास बहु का मन्दिर
  51. चावंड - चावंड की पहाडियों के बीच महराणा प्रताप का मृत्यु हुई थी (यहाँ से कुछ दूर बांडोली नामक स्थान पर इनको अग्नि दी गयी
  52. डबोक हवाई अड्डा -   उदयपुर हवाई अड्डा उदयपुर से 22kms की दूरी पर राजस्थान में Dabok के शहर के पास स्थित है, . इस हवाई अड्डे को भी Dabok उदयपुर हवाई अड्डे के रूप में जाना जाता है. हालांकि, हवाई अड्डे के लिए सौंपा औपचारिक नाम महाराणा प्रताप हवाई अड्डे है . हवाई अड्डे जयपुर, दिल्ली, मुंबई, कोलकाता, जोधपुर और कई अन्य शहरों सहित देश के सभी प्रमुख शहरों के लिए अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है. वहाँ से और उदयपुर से है कि एक दैनिक आधार पर चलाने के लिए नियमित उड़ानें हैं.


Post a Comment

Popular Posts