पर्यावरण प्रदूषण

पर्यावरण प्रदूषण
पर्यावरण प्रदूषण मानवीय क्रियाकलापों वेफ अपशिष्ट उत्पादों से मुक्त द्रव्य एवं ऊर्जा का परिणाम है। प्रदूषण वेफ अनेक प्रकार हैं। प्रदूषकों वेफ परिवहित एवं विसरित होने वेफ माध्यम वेफ आधार पर प्रदूषण को निम्नलिखित प्रकारों में वर्गीवृफत किया जाता हैµ ;पद्ध जल प्रदूषण, ;पपद्ध वायु प्रदूषण, ;पपपद्ध भू-प्रदूषण, ;पअद्ध ध्वनि प्रदूषण।

जल प्रदूषण
बढ़ती हुई जनसंख्या और औद्योगिक विस्तारण वेफ कारण जल वेफ अविवेकपूर्ण उपयोग से जल की गुणवत्ता का बहुत अधिक निम्नीकरण हुआ है। नदियों, नहरों, झीलों तथा तालाबों आदि में उपलब्ध जल शु( नहीं रह गया है। इसमें अल्प मात्रा में निलंबित कण, कार्बनिक तथा अकार्बनिक पदार्थ समाहित होते हैं। जब जल में इन पदार्थों की सांद्रता बढ़ जाती है तो जल प्रदूषित हो जाता है और इस तरह वह उपयोग वेफ योग्य नहीं रह जाता। ऐसी स्थिति में जल में स्वतः शु(ीकरण की क्षमता जल को शु( नहीं कर पाती। यद्यपि, जल प्रदूषण प्राकृतिक स्रोतों ;अपरदन, भू-स्खलन और पेड़-पौधों तथा मृत पशु वेफ सड़ने-गलने आदिद्ध से प्राप्त प्रदूषको ं से भी होता है, तथापि मानव स्रोतों से उत्पन्न होने वाले प्रदूषक चिंता वेफ वास्तविक कारण हैं। मानव, जल को उद्योगों, कृषि एवं सांस्कृतिक गतिविधियो ं वेफ माध्यम से प्रदूषित करता है। इन क्रियाकलापों में उद्योग सर्वाधिक महत्त्वपूर्ण सहायक है।

प्रदूषण प्रकार सन्निहित प्रदूषण प्रदूषण वेफ स्रोत

वायु प्रदूषण सल्पफर वेफ ऑक्साइड ;ैव्2ए ैव्3द्ध नाइट्रोजन ऑक्साइड,कार्बन मोनोऑक्साइड, हाइड्रो कार्बन, अमोनिया, सीसा एल्डेहाइड्स एस्बेस्टोश एवं बेरिलियम कोयले, पेट्रोल व डीशल का दहन ;जलनाद्ध, औद्योगिक
प्रव्रफम, ठोस कचरा निपटान, वाहित मल ;जल-मलद्ध निपटान आदि

जल प्रदूषण बदबू, घुलित एवं निलंबित ठोस कण, अमोनिया तथा यूरिया, नाइट्रेट एवं नाइट्राइट्स, क्लोराइड्स, फ्रलोराइड्स, कार्बोनेट्स, तेल एवं ग्रीस ;चिकनाईद्ध, कीटनाशकों एवं पीड़कनाशी वेफ अवशेष, टैंनिन, कोलीपफार्म एम पी एम ;जीवाणु गणनाद्ध, सल्पेफट्स एवं सल्पफाइड्स, भारी धातुएँ जैसे कि सीसा, आर्सेनिक, पारा, मैंगनीश आदि रेडियोधर्मी पदार्थ तत्त्व वाहित मल निपटान, नगरीय वाही जल, उद्योगों वेफ विषाक्त वृफषित भूमि वेफ उफपर से बहता जल बहिःड्डाव तथा नाभिकीय उफर्जा संयंत्रा

भू-प्रदूषण मानव एवं पशु मलादि विषाणु तथा जीवाणु तथा रोगवाहक विरलन कीटनाशक एवं उर्वरक अवशिष्ट क्षारीयता, फ्रलोराइड्स, रेडियोधर्मी पदार्थ। अनुचित मानव व्रिफयाकलाप, अनुपचारित औद्योगिक अपशिष्ट का निपटान, पीड़कनाशी एवं उर्वरकों का उपयोग।

ध्वनि प्रदूषण सहन क्षमता से अधिक उफँची ध्वनि का स्तर वायुयान, मोटर-वाहन, रेलगाड़ियाँ, औद्योगिक प्रव्रफम तथा विज्ञापन मीडिया
Post a Comment

Popular Posts