उदयपुर झीलों की नगरी (राजस्थान)



उदयपुर

उदयपुर
  • क्षेत्रफल : १२५१० km2
  • उदयपुर में संभागीय मुख्यालय है
  • उपखण्ड ४, तहसीले : १०
  • माणिक्यलाल आदिन जाति शोध संस्थान, जयसमंद पिछोला झील, राजस्थान राज्य शैक्षिक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण संस्थान, उदयपुर की स्थापना महाराणा उदय सिंह ने १५५९ . में की गयी . १५६८ में मुगल शासक अकबर ने चित्तौड पर आक्रमण किया.
  • उदयपुर झीलों की नगरी, राजस्थान का कश्मीर, पूर्व का वेनिस आदि उपनामो से प्रसिद्ध है . २००९ का विश्व का सर्वोत्तम शहर
  • २००७ का द्वितीय सर्वोतम एशियाई शहर
  • २००७ में ओबेराय उदयविलास होटल विश्व का सर्वोत्तम होटल घोषित
  • जोनल रेलवे प्रशिक्षण संस्थान एशिया में सर्वोत्तम
  • सर्वाधिक वन सम्पदा, और सर्वाधिक जलाशय
  • राज्य में सर्वाधिक अदरक , हल्दी , सीताफल, ककड़ी, अंजीर, पपीता
  • भैंस अनुसंधान प्रजनन केन्द्र , वल्लभनगर
  • राज्य में अरावली का सर्वाधिक विस्तार
  • सर्वाधिक जैन आबादी, सर्वाधिक जनजाति पाई जाती है
  • जावर माइन्स में जस्ते सीसे का उत्पादन
  • हिंदुस्तान जिंक लिमिटेड, देबारी
  • रोक फास्फेट , झामर कोटड़ा
  • गुजरात की प्रमुख नदी साबरमती का उद्दगम स्थल
  • सोम नदी , बिछाबेडा
  • बेडच नदी, गोगुन्दा पर्वत
  • आधुनिक राजस्थान के निर्माता मोहन लाल सुखाडिया की कर्मस्थली
  • पंडित उदयशंकर भारतीये बेले के जनक
  • पंडित रामनारायण प्रसिद्ध सारंगीवादक
  • भारत का प्रथम मार्शल आर्ट विश्वविद्यालय
  • माणिक्यलाल वर्मा आदिम जाति शोध संस्थान
  • गवरी लोकनाट्य
  • एकलिंगनाथजी का मन्दिर, कैलाशपुरी- निर्माण : 8 वीं शताब्दी में बप्पा रावल
  • नीमच माता का मन्दिर
  • जगदीश मन्दिर निर्माता - महाराणा जगत सिंह
  • अम्बिका माता का मन्दिर , जगत गाँव में
  • बोहरा गणेशजी का मन्दिर (खड़े हुवे गणेश जी के कारण प्रसिद्ध)
  • ऋषभदेवजी का मन्दिर (धुलैव) (काले पत्थर की मूर्ति) इसको कालाजी केशरियानाथ जी भी कहा जाता है
  • मोती नगरी - फतह सागर झील के नजदीक है
  • बागोर की हवेली निर्माता : ठाकुर अमरचंद बड़वा (इस हवेली में विश्व की सबसे बड़ी पगड़ी स्थित है)
  • सिटी पैलेस - निर्माता प्रारंभ : महाराणा उदयसिंह द्वारा
  • लैक पैलेस अर्थात जग निवास (पिछोला झील के मध्य में टापू पर स्थित इस का निर्माण महाराणा जगसिंह द्वितीय अपने नाम पर इसका निर्माण करवाया
  • पिछोला झील इसका निर्माण महाराणा लाखा के समय , पिछ्छू बनजारा ने करवाया था (दूध तलाई)
  • फतह सागर - निर्माता : महाराणा जयसिंह 1678 में (पुननिर्माण : महाराणा फतेह सिंह) (इसमें नेहरु आईलेंड उद्यान है निर्माण - १४ नवम्बर १९६७ )(सौर वैधशाला निर्माण : 1975 में)
  • जयसमंद झील एशिया की दूसरी सबसे बड़ी कृत्रिम झील (ढेबर झील भी कहा जाता है) निर्माता : महाराणा जयसिंह . इस झील के निकट जयसमंद अभयारण्य का निर्माण कराया गया
  • उदयसागर झील निर्माता : महाराणा उदयसिंह
  • स्वरूप सागर निर्माता : महाराणा स्वरूपसिंह (उपनाम - कुम्भारिया तालाब)
  • जियण सागर झील , निर्माता : महाराणा राजसिंह (उपनाम - बड़ी का तालाब)
  • गुलाब बाग - निर्माता : महाराणा सज्जनसिंह, जंतुआलय १८७८ में स्थापित
  • सहेलियों की बाड़ी - निर्माता : महाराणा संग्राम सिंह द्वितीय
  • आहड सभ्यता - आयड नदी के किनारे पर
  • सज्जनगढ़ अभ्यारण्य - राजस्थान का क्षेत्रफल की दृष्टि से सबसे छोटा अभयारण्यों
  • फुलवारी की नाल अभयारण्य
  • भारतीये लोक कला मण्डल स्थापना देवीलाल सामर द्वारा २२ फरवरी १९५२ में
  • मेवाड महोत्सव
  • शिल्पग्राम मेला
  • नागदा - सास बहु का मन्दिर
  • चावंड - चावंड की पहाडियों के बीच महराणा प्रताप का मृत्यु हुई थी (यहाँ से कुछ दूर बांडोली नामक स्थान पर इनको अग्नि दी गयी
  • डबोक हवाई अड्डा
Post a Comment

Popular Posts