राजस्थान राजव्यवस्था


राजस्थान राजव्यवस्था
राजस्थान की प्रशासनिक व्यवस्था
  1. राज्य का वर्तमान स्वरूप १ नवम्बर १९५६ को अस्तित्व में आया.
  2. राजस्थान के प्रथम राजप्रमुख सवाई मानसिंह थे.
  3. प्रथम राज्यपाल गुरूमुख निहाल सिंह थे.
  4. राज्य की व्यवस्थापिका एकसदनीय है, कार्यपालिका राज्य की व्यवस्थापिका के प्रति उत्तरदायी है.
संभाग : ०७, उपखण्ड : १८८, कस्बे २२२, पंचायत समिति : २३७
जिले :३३ ,  तहसील : २४३, जिला परिषद ३२, नगर निकाय : १८३
नगर निगम :०३ , नगर परिषद : ११, नगर पालिका : १६९
मान्यता प्राप्त राज्य में राजनितिक दल
  1. कांग्रेस (इ)
  2. जनता दल (यू)
  3. भाजपा
  4. राष्ट्रीय जनता दल
  5. सी. पी. आई.
  6. राष्ट्रवादी कांग्रेस
  7. बसपा
  8. लोक जनशक्ति
राजस्थान राज्य का निर्माण
1.मत्स्य संघ - अलवर भरतपुर धौलपुर करौली- दिनांक 17-03-1948
2.संयुक्त राजस्थान बाँसवाड़ा बूँदी डूंगरपुर झालावाड़ किशनगढ़ कोटा प्रतापगढ़ शाहपुरा और टौंक - दिनांक 25-03-1948
3.संयुक्त राजस्थान संघ- उदयपुर रियासत का संयुक्त राजस्थान में विलय - दिनांक 18-04-1948
4. वृहद् राजस्थान - बीकानेर जयपुर जैसलमेर जोधपुर भी संयुक्त राजस्थान में जुड़े - दिनांक 30-03-1949
5.संयुक्त वृहद् राजस्थान - मत्स्य संघ का वृहद् राजस्थान में विलय - दिनांक 15-05-1949
6.राजस्थान संघ - आबू और दिलवाडा को छोड़ कर सिरोही राज्य का संयुक्त वृहद् राजस्थान के 18 राज्यो में विलय - दिनांक 26-01-1950
7.राजस्थान - अजमेर तथा रियासतकालीन राज्य सिरोही का अंग रहे आबूरोड तालुका { आबू व दिलवाड़ा } जो पूर्व में बंबई राज्य में मिल चुका था एवं पूर्व मध्य भारत के अंग रहे सुनेल टप्पा का राजस्थान संघ में विलय। साथ ही झालावाड़ जिले के सिरोंज उप जिला को मध्य प्रदेश में शामिल किया गया।


राजस्थान सरकार
कार्यपालिका               व्यवस्थापिका                 न्यायपालिका
वैधानिक कार्यपालिका       विधान सभा                  उच्च न्यायालय
(राज्यपाल)                                           अधीनस्थ न्यायालय
वास्तविक कार्यपालिका
(मंत्रिपरिषद)                                          न्यायालयों का वर्गीकरण
दीवानी न्यायालय
फौजदारी न्यायालय
राजस्व न्यायालय
न्याय उपसमिति
राजस्थान उच्च न्यायालय (rajasthan high court) के तथ्य
मुख्यालय जोधपुर (स्थापना : ९ अगस्त, 1949)
खण्डपीठ जयपुर (स्थापना : ३१ जनवरी , १९४९)
स्थापना वर्ष -  १९४९
न्यायाधीस -  ४०(मुख्य न्यायाधीस सहित)
प्रथम मुख्य न्यायाधीस न्यायमूर्ति श्री कमलकांत वर्मा
सर्वाधिक समय तक मुख्य न्यायाधीस कैलाश नाथ वांचू
  1. दीवानी न्यायालय सिविल न्यायालय, लघुवाद न्यायालय, मुंसिफ न्यायालय, न्याय पंचायत
  2. फौजदारी न्यायालय प्रथम श्रेणी दण्डनायक, द्वितीय श्रेणी दण्डनायक, तृतीय श्रेणी दण्डनायक, न्याय पंचायत
  3. राजस्व राजस्व अपील अधिकारी, जिलाधीस न्यायालय , उप जिलाधीस न्यायालय, तहसीलदार न्यायालय, नायब तहसीलदार न्यायालय
जिला न्यायिक प्रशासन
डिस्ट्रिक्ट मजिस्ट्रेट
सिविल जज                                  सेशन जज
पुलिस मजिस्ट्रेट               प्रथम श्रेणी मजिस्ट्रेट        मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट
द्वितीय श्रेणी मजिस्ट्रेट
उपन्याय समिति


राज्य के निर्वाचन क्षेत्र
विधान सभा क्षेत्र २०० (अनारक्षित १४४, आरक्षित -५६)
लोक सभा क्षेत्र  - २५ (अनारक्षित १८, आरक्षित ७)
राज्य सभा क्षेत्र १०
राजस्थान में राष्ट्रपति शासन
प्रथम 13.3.1967 to 25.4.1967 (44दिन)
द्वितीय 20.4.1977 to 21.6.1977 (2माह)
तृतीय 16.02.1980 to 5.6.1980 (3माह 21दिन)
चतुर्थ 15.12.1992 to 3.12.1993 (11 माह 20दिन)
राजस्थान लोक सेवा आयोग
राजस्थान लोक सेवा आयोग अजमेर में स्थित है . राज्य में लोक सेवको की भर्ती करने के लिए सलाह देने हेतू इसकी स्थापना २० अगस्त १९४९ ई. को की गयी थी. इसके अध्यक्ष व सदस्यों का कार्यकाल ६ वर्ष या ६२ वर्ष की उम्र तक होता है.
Post a Comment

Popular Posts