बहुराष्ट्रीय कम्पनियों का असली चेहरा


बहुराष्ट्रीय कम्पनियों का असली चेहरा
मरे हुये लोगों को जलाकर कमाई करने वली दुनिया की सबसे
बड़ी बहुराष्ट्रीय कम्पनी इन्टरनेशनल सर्विस कार्पोरेशन’    है।
इसके पास विश्व भर में 502 शवदाह गृह हैं। यह कम्पनी शवों को जलाकर
एक वर्ष में औसतन 69 करोड़ 28 लाख 17 हजार डालर (13 अरब 16
करोड़ 35 लाख 23 हजार रूपये) कमाती हैं। यह कम्पनी अमेरिका की है।
युद्ध में काम आने वाली मिसाइलें को बनाने वाली दुनिया की सबसे
बड़ी बहुराष्ट्रीय कम्पनी सेस्त्र एयर क्राफ्ट है। अपने स्थापित
होने से सन् 1994 तक यह कम्पनी 17 लाख 81 हजार मिलाइलें बनाकर दुनिया
के विभिन्न देशों को बेच चुकी हैं। यह कम्पनी सन् 1911 में स्थापित हुयी थी।
सामान्य रूप से यह कम्पनी प्रति वर्ष लगभग 2,300 मिसाइलें का उत्पादन
करती है। युद्ध के दिनों में कम्पनी का उत्पादन बढ़ जाता है क्योंकि मिसाइलों
का उत्पादन बढ़ जाता है क्योंकि मिसाइलों की खपत बढ़ जाती है। उदाहरण
के लिये ईरान-ईराक युद्ध के समय में कम्पनी ने 3000 मिसाइलों का उत्पादन
प्रतिवर्ष किया था। यह अमेरिकी कम्पनी है।
विश्व भर में जितनी भी बहुराष्ट्रीय कम्पनीयाँ हैं उनमें सबसे बड़ी
है - हथियारों का उत्पादन करने वाली अमेरिका बहुराष्ट्रीय कम्पनी
जनरल मोटर्स’    । इस कम्पनी ने सन् 1994 में 154
अरब डालर (4928 अरब रूपये) की बिक्री की अपने उत्पादों को बेचकर।
दुनिया में सबसे अधिक विषैली गैसों का उत्पादन करने वाली कम्पनी
अमेरिकी की है जिसका नाम है ड्यूपान्ट’  दुनिया के सभी विकासशील
देशों में उत्पादन के तौर तरीकों के कारण जितनी विषैली गैसें उत्पन्न होती हैं,
उस मात्रा का 10 गुना अधिक, विषैली गैसें अकेले ड्यूपान्ट उत्पादित करती है।
ध्यान रहे कि, ये विषैली गैसें ओजोन की परत को लगातार कमजोर करने के
लिये जिम्मेदार हैं। अन्तर्राष्ट्रीय पर्यावरण के विनाश के लिये अगर सबसे अधिक
जिम्मेदार कोई है, तो वह है-अमरिकी बहुराष्ट्रीय कम्पनी ड्यूपान्ट’        
दूसरे स्थान पर आती है ब्रिटेन की इम्पीरियल केमीकल इन्डस्ट्री’           दोनों
कम्पनियों के दुनिया भर में स्थित कारखाने, 500 टन के बराबर प्रतिदिन
जहरीली गैसें छोड़ते हैं।
सबसे अधिक लडाकू विमानों का उत्पादन करने वाली कम्पनी हैं
- बोइंग। इस कम्पनी ने सन् 1994 में लगभग 21 अरग डालर (672
अरब रूपये) के लड़ाकू विमान बनाये। यह अमरिकी कम्पनी अन्य मालवाहक
व यात्री वाहक हवाई जहाज भी बनाती है।
दुनिया में सबसे अधिक मुनाफा कमाने वाली कम्पनी इन्टरनेशनल
बिजनेस मशीन’           अमेरिका की है। इस कम्पनी का सन् 1994 का
विशुद्ध मुनाफा लगभग 58 अरब डालर (1856 अरब रूपये) था। यह कम्पनी
इलैक्ट्रानिकी की चीजें बनाने के अलावा हथियार भी बनाती है।
दुनिया में सबसे अधिक शराब का उत्पादन करने वाली बहुराष्ट्रीय
कम्पनी एनह्यूसर-बुश इनकार्पोरेशन . अमेरिका
की है। यह कम्पनी विश्व के 54 देशों में बेचने के लिये 92 अरब 13 करोड़ लीटर
शराब प्रति वर्ष बनाती है।
दुनिया में सबसे अधिक सिगरेटों का उत्पादन करके बेचने वाली
कम्पनी अमेरिका की आर.जे.रेनाल्ड टोबैको कम्पनीहै। यह कम्पनी प्रति वर्ष
110 बिलियन (110 अरब) सिगरेटों का उत्पादन करती है। याद रहे कि 500
सिगरेटों के बनाने में एक बड़ा पेड़ समाप्त हो जाता है। पूरे विश्व में लगातार
पेड़ों की संख्या अत्यन्त तेजी से कम होती जा रही है।
विश्व की सबसे बड़ी विज्ञापन बनाने वाली कम्पनी सात्ची एण्ड
सात्ची’    ब्रिटेन की है। कम्पनी ने दुनिया की तमाम
बहुराष्ट्रीय कम्पनियों के लिये सन् 1988 में 135 अरब 29 करोड़ डालर (257
अरब 5 करोड़ रूपये) के विज्ञापन तैयार किये थे।
प्रतिवर्ष विज्ञापन पर सबसे अधिक खर्चा करने वाली कम्पनी
सीयर्स रोब्यूक एण्ड कम्पनी’    
अमेरिका की है। सन् 1988 में इस कम्पनी ने 1 अरब 18 करोड़ 68 लाख
डालर 822 अरब 54 करोड़ 92 लाख रूपये) विज्ञापन पर खर्च किये। यह
कम्पनी रेडीमेड वस्त्र तथा जुतों का उत्पादन करती है।
विश्व की 570 ऐसी बहुराष्ट्रीय कम्पनियाँ हैं जिनमें प्रत्येक का
वार्षिक कारोबार 20 अरब डालर (640 अरब रूपये) से भी अधिक है। इनमें
सबसे विशालकाय 100 बहुराष्ट्रीय कम्पनियों का पूरे विश्व की आर्थिक
व्यवस्था पर कब्जा है।
दुनिया में बहुराष्ट्रीय कम्पनियों का सबसे बड़ा समूह जैसपर ग्रुप है, जिसके पास अकेले अपनी 451 बहुराष्ट्रीय कम्पनियाँ हैं।
जुलाई 1995 तक प्राप्त आंकड़ों के अनुसार पूरे विश्व में 12,32,951
कम्पनियाँ हैं। इनमें 102664 सरकारी तथा बाकी निजी कम्पनियाँ है।
पश्चिमी जर्मनी व यूरोप के कई अन्य देशों में चल रहे ग्रीन पीस
मूवमेंटकी अक्टूबर 1994 की रिपोर्ट में बहुराष्ट्रीय कम्पनियों को इस प्रकार
परिभाषित किया गया है - ऐसी कोई भी कम्पनी जो एक साथ दुनिया के
एक से अधिक देशों में काम करती हो, बहुराष्ट्रीय कम्पनी मानी जानी चाहिए।
Post a Comment

Popular Posts