Saturday, March 3, 2012

साँसी जनजाति


साँसी
Ø भरतपुर जिले में निवास करती है.
यह एक खानाबदोश जीवन व्यतीत करने वाली जनजाति है.
Ø साँसी जनजाति की उत्पति सांसमल नामक व्यक्ति से मानी जाती है.
Ø विवाह युवक-युवतियों के वैवाहिक संबंध उनके माता-पिता द्वारा किये जाते है. विवाह पूर्व यौन संबंध को अत्यन्त गंभीरता से लिया जाता है.
Ø सगाई यह रस्म इनमे अनोखी होती है , जब दो खानाबदोश समूह संयोग से घूमते-घूमते एक स्थान पर मिल जाते है, तो सगाई हो जाती है.
Ø साँसी जनजाति को दो भागों में विभिक्त है à बीजा और माला .
इनमे होली और दिवाली के अवसर पर देवी माता के सम्मुख बकरों की बली दी जाती है.
ये लोग वृक्षों की पूजा करते है.
मांस और शराब इनका प्रिय भोजन है.
मांस में ये लोमड़ी और सांड का मांस पसन्द करते है.
Reactions:

0 comments: