भील जनजाति


भील :
Ø कर्नल जेम्स टोड ने भीलों को वनपुत्र कहा था.
Ø भील शब्द की उत्पति बील से हुई है जिसका अर्थ है कमान; है.
Ø सबसे प्राचीन जनजाति
Ø बासवाडा, डूंगरपुर, उदयपुर (सर्वाधिक), चित्तौड़गढ़ जिलो में निवास करती है.
Ø दूसरी सबसे बड़ी जनजाति
Ø प्रथाएँ
  • इस जनजाति के बड़े गाँव को पाल तथा छोटे गाँव को फला कहा जाता है.
  • पाल का नेता मुखिया या ग्रामपति कहलाता है.

Ø अटक किसी एक हि पूर्वज से उत्पन्न गौत्रो को भील जनजाति में अटक कहते है.
Ø कू भीलों के घरों को कू कहा जाता है.
Ø टापरा - भीलों के घरों को टापरा भी कहते है.
Ø झूमटी(दाजिया) à आदिवासियों द्वारा मैदानी भागों को जलाकर जो कृषि की जाती उसे झूमटी कहते है.
Ø चिमाता à भीलों द्वारा पहाड़ी ढालों पर की जाने वाली कृषि को चिमाता कहते है.
Ø गमेती à भीलों के गाँवो के मुखिया को गमेती कहते है.
Ø भील केसरिनाथ के चढ़ी हुई केसर का पानी पीकर कभी झूट नहीं बोलते है.
Ø ठेपाडा à भील जनजाति के लोग जो तंग धोती पहनते है.
Ø पोत्या -> सफेद साफा जो सिर पर पहनते है.
Ø पिरिया à भील जाती में विवाह के अवसर पर दुल्हन जो पीले रंग का जो लहंगा पहनती है. लाल रंग की साड़ी को सिंदूरी कहा जाता है.
Ø भराड़ी वैवाहिक अवसर पर जिस लोक देवी का भित्ति चित्र बनाया जाता है.
Ø फाइरे-फाइरे à भील जनजाति का रणघोष
Ø टोटम à भील जनजाति के लोग टोटम (कुलदेवता) की पूजा करते है.
ये लोग झूम कृषि भी करते है.
Post a Comment

Popular Posts